You are here: Homeखबरें विदेश से

World (194)

ब्यूनस आयर्स: वेनेजुएला में मौजूदा राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के खिलाफ हो रहे राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में अब तक 26 लोगों की माैत हो गयी है. गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) वेनेजुएलन आब्जर्वेटरी ऑफ सोशल कांफलिक्ट ने गुरुवार को यह जानकारी दी. एनजीओ ने कहा गुरुवार को अपराह्न दो बजे तक प्रदर्शनों में 26 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. मृतकों की संख्या में केवल वही लोग शामिल हैं जिनकी पहचान कर ली गयी है. वेनेजुएला प्रशासन ने अभी तक आधिकारिक रूप से किसी के भी मारे जाने की घोषणा नहीं की है. वेनेजुएला में पिछले कुछ दिनों से सरकार विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं. बुधवार को वेनेजुएला की नेशनल असेंबली के अध्यक्ष एवं विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो ने स्वयं को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित किया. अमेरिका ने राष्ट्रपति मादुरो को पद से हटने का आग्रह किया लेकिन इसके जवाब मेंमादुरो ने अमेरिका से सभी राजनयिक संबंध तोड़ने की घोषणा करते हुए कहा कि अमेरिका वेनेजुएला को अस्थिर कर सत्ता परिवर्तन करना चाहता है.

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

क्यूबा की राजधानी हवाना के प्रमुख हवाई अड्डे से आज एक बोइंग-737 यात्री विमान उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी। क्यूबा के सरकारी टेलीविजन चैनल क्यूबा टीवी ने इस बात की जानकारी दी। विमान का मलबा हवाना से 20 किलोमीटर दूर दक्षिण में बोयरोस के कृषि क्षेत्र में बरामद किया गया। क्यूबा के राष्ट्रपति मिगेल डियाज कनेल ने बताया कि विमान में यात्रियों समेत चालक दल के कुल 114 लोग सवार थे। इस हादसे में केवल 3 लोग जीवित बच पाए हैं, जोकि गंभीर रूप से घायल हैं। यह विमान घरेलू उड़ान के तहत हवाना से होलगन जा रहा था। इस विमान में 5 बच्चों समेत कुल 105 यात्री सवार थे। इसके अलावा विमान में चालक दल के 9 सदस्य भी मौजूद थे। राष्ट्रपति श्री कनेल ने बताया कि विमान दुर्घटना के बाद लगी आग को बुझा लिया गया है और प्रशासन ने मारे गए लोगों के शवों की पहचान करनी शुरू कर दी है। प्रशासन विमान दुर्घटना के कारणों की जांच कर रहा है। क्यूबा में करीब 110 लोगों को ले जा रहा एक विमान हवाना हवाई अड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद कल दुर्घटनाग्रस्त हो गया और उसमें आग लग गई। जोस मार्टी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद रनवे खत्म होते ही यह विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में लगी आग पर काबू पाने के लिए दमकलकर्मी वहां तत्काल पहुंच गए थे।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली॥ अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के सीरिया पर हमले के बाद यूएन ने सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई है। यूएन ने बैठक रुस की मांग पर बुलाई है। रुस की मांग का चीन और बोलिविया ने समर्थन किया है। सीरिया पर हमले को लेकर अमेरिका ने कहा कि ये हमला राष्ट्रपति असद को संदेश देने के लिए है।

अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर सीरिया पर हमला किया। हमला राजधानी दमिश्क और उसके आस-पास के होम्स जैसे ठिकानों पर किया गया है। हमले में राजधानी के आस-पास मौजूद सीरियाई सेना और 'केमिकल रिसर्च सेंटर' को निशाना बनाया गया है।

हमले के जवाब में रूस ने कहा है कि पुतिन का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। एक रूसी दूत ने चेतावनी दी है कि हमले के परिणाम के लिए तैयार रहें।

अमेरिका के डिफेंस सेक्रेटरी ने हमले से जुड़ी अपनी अपील में कहा, "समय आ गया है कि सभी सभ्य देश मिलकर सीरियाई गृह युद्ध को समाप्त करें और इसके लिए वो अमेरिका का साथ दें जिसे पहले से जेनेवा शांति प्रयास का समर्थन हासिल है।"

अमेरिका में रूस के राजदूत एंटोनी एंटोलोव ने कहा- हमने चेतावनी दी थी की ऐसे हमलों के परिणाम भुगतने पड़ेंगे। अब जो होगा उसकी ज़िम्मेदारी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की है।

हमले से जुड़ी जनकारी साझा करते हुए अमेरिकी जनरल डनफोर्ड ने कहा है कि अमेरिका ने इस हमले की जानकारी रूस को पहले से नहीं दी थी।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अवैध प्रवासियों को 'पकड़ने और रिहा करने' की परंपरा खत्म करने के लिए एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए हैं। बता दें कि इस परंपरा के तहत अमेरिका में आए अवैध प्रवासियों को उनकी गिरफ्तारी के तुरंत बाद रिहा कर दिया जाता है। राष्ट्रपति ट्रंप ने इस दस्तावेज में रक्षामंत्री से उन सैन्य प्रतिष्ठानों की एक सूची उपलब्ध कराने को कहा है कि जिनका इस्तेमाल करने से अवैध प्रवासियों को हिरासत में रखा जा सकता है। व्हाइट हाउस में शुक्रवार को एक बयान में 'पकड़ने और रिहा करने' की नीति को एक 'खतरनाक परंपरा' बताया है। जिसके तहत देश में अमेरिकी आव्रजन कानूनों का उल्लंघन करने वाले प्रवासियों को रिहा कर दिया जाता है।

उन्होंने बयान में कहा, 'अमेरिकी नागरिकों की रक्षा एवं सुरक्षा राष्ट्रपति की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसलिए वह देश की रक्षा के अपने वादे को पूरा करेंगे तथा अमेरिकी कानूनों का सम्मान सुनिश्चित करेंगे। इसके अनुसार, 'अमेरिकी राष्ट्रपति ने कांग्रेस के डेमोक्रेट सदस्यों से आह्वान किया कि वे सीमा सुरक्षा का विरोध खत्म करें और अमेरिका की रक्षा एवं सुरक्षा के लिए अहम उपायों में अड़चन डालना बंद करें। संबंधित दस्तावेज में ट्रंप ने कहा कि मानव तस्करी, मादक पदार्थों एवं अन्य प्रतिबंधित सामग्री की तस्करी और गिरोहों के सदस्यों तथा अन्य अपराधियों का अमेरिका की सीमा में घुसना देश की राष्ट्रीय सुरक्षा एवं अमेरिकी नागरिकों  की रक्षा के लिए खतरा हैं।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

सीमा पर लगातार गोलाबारी और फायरिंग के विरोध में सेना तथा पाकिस्तान सरकार के खिलाफ जारी हैं प्रदर्शन।प्रदर्शनकारियों सेना के खिलाफ शुक्रवार को निकाली रैली

प्रदर्शनकारियों ने कुछ पुलिस बंकरो को लगाईं आग क्युकी प्रदर्शन करते समय पुलिस ने करी थी लाठी चार्ज   

वहीं मुजफ्फराबाद मैं भी पुलिस और सेना के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने किया प्रदर्शन  

प्रदर्शनकारियों ने रखी मांग की पाकिस्तान के द्वार सेना सीमा पर जो गोलाबारी हो रही हैं उससे बंद करे

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली:चीन बना रहा दुनिया का सबसे लंबा समुंद्री पुल यह जोड़ेगा हांगकांग और मकाउ को इस पुल को बनाने के लिए 60 एफिल की मात्रा का उपयोग किया गाया हैं यह पुल एक सुरंग से होकर गुज़रेगी जो समंदर के अंदर होगी 9 साल पहल शुरू हुई थी परियोजना इस हफ्ते दिखया रिव्यु.

 

पुल पर्ल नदी के मुहाने के पानी को काटता हुआ निकलेगा। अधिकारियों ने उम्मीद जताई है कि पुल का इस्तेमाल 120 वर्षों तक किया जा सकेगा और इससे यात्रा में लगने वाले समय में करीब 60 फीसदी की कमी आएगी, जिससे व्यवसाय को प्रोत्साहन मिलेग।चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक पुल के लिए 420,000 टन स्टील इस्तेमाल किया जा रहा है।

 

  इस पुल की परियोजना के मैनेजर गाओ जिंगलिन ने कहा कि इस पुल के लिए पानी के भीतर 6.7 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने में उनकी कई रातों की नींद लगी। गाओ ने बताया- ”कई रात मैं सो नही पाया, क्योंकि निर्माण के दौरान बहुत सी कठिनाइयां आईं।उन्होंने आगे कहा- ”पानी के भीतर 80 हजार टन के पाइपों को वाटरटाइट तकनीकी के सहारे जोड़ना सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य था।”

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

 

नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज ने गुरुवार को अपने भाषण में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्वज में भारत और जापान का संबंध मजबूत हुआ है। विवेकानंद कल्चरल सेंटर में भारतीय प्रवासियों के समूह को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री ने जापान के साथ संबंध को मजबूत बनाने में प्रवासियों के योगदान और जापान में भारत की सकारात्मक तस्वीर उकेरने की भी सराहना की। विदेश मंत्री ने कहा की पहले की तुलना में अब भारत-जापान संबंध अधिक मजबूत हुआ है और इसका बड़ा कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रधानमंत्री शिंजो आबे की मित्रता है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में जापान का भारत के साथ संबंध अधिक मजबूत हुआ है।

जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो के साथ नौवें भारत-जापान रणनीतिक वार्ता के लिए बुधवार को स्वाराज टोक्योो पहुंची। सुषमा स्वणराज और तारो कोनो के बीच रणनीतिक वार्ता आज होगी। 28 से 20 मार्च तक स्वहराज जापान में हैं।

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पीएम शाहिद खाकान अब्बासी को अमेरिका में एयरपोर्ट पर कड़ी सुरक्षा जांच का सामना करना पड़ा। पाकिस्तानी मीडिया ने इसे अपमान बताया है। आपको बता दें कि इससे पहले अमेरिका ने पाकिस्तान वीजा बैन करके, रक्षा मदद रोककर और कई कंपनियों को प्रतिबंधित करके पाकिस्तान को कड़ा झटका दिया था। सोमवार को अमेरिका ने पाकिस्तान की 7 कंपनियों को परमाणु व्यापार मामले में प्रतिबंधित कर दिया। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक पीएम अब्बासी को बैग और कोट लिए कड़ी सुरक्षा जांच से होकर गुजरना पड़ा। जानकारी के अनुसार पीएम अब्बास कुछ दिनों पहले अपनी बीमार बहन को देखने अमेरिका गए थे।

 

हालांकि उनकी मुलाकात वहा उपराष्ट्रपति माइक पेंस से भी हुई थी। पाकिस्तानी समाचार चैनल पर ऐंकर इसे शर्मनाक बता रहे थे। एक चैनल पर कहा गया, 'वह कह रहे हैं कि निजी दौरे पर गए थे लेकिन उन्हें शर्म आनी चाहिए। वह प्रधानमंत्री हैं और उनके पास डिप्लोमेटिक पासपोर्ट है। निजी दौरे जैसी कोई बात नहीं होती। वह 22 करोड़ देशवासियों के प्रतिनिधि हैं।' मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आतंकवाद को पनाह देने के मामले में ट्रंप पाकिस्तान पर शिकंजा कसने में कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

 

Read 0 times

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली॥ स्कॉटलैंड के पूर्वी आयरशायर क्षेत्र में स्थित पटना नाम के एक छोटे शहर में बिहार की राजधानी के साथ उसके ऐतिहासिक संबंधों को मनाने के लिए बिहार दिवस का अयोजन किया गया।

स्कॉटलैंड के कृषक विलियम फुलर्टन ने उनके स्केलडन स्टेट और कोयले के खदानों में काम करने वाले लोगों को आवासीय सुविधा प्रदान करने के लिए 1802 में एक छोटा सा शहर बसाया था, जिसका नाम उन्होंने बिहार की राजधानी पटना के नाम पर रखा था।

फुलर्टन का जन्म पटना में हुआ था और उन्होंने वहां काफी वक्त बिताया था। स्काटलैंड में 17 मार्च को आयोजित बिहार दिवस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त वाई. के. सिन्हा ने कहा, 'पटना हमेशा से शिक्षा और व्यापार का प्रमुख केंद्र रहा है।' फुलर्टन ने अपने पिता सर्जन विलियम फुलर्टन की याद में स्कॉटलैंड में पटना का निर्माण किया था। सर्जन ब्रिटिश इर्स्ट इंडिया कंपनी में थे और भारत में 1744 से 1766 तक अपनी सेवाएं दी थी। इस दौरान स्थानीय इतिहासकारों, पेंटरों, कलाकारों और व्यापारियों से उनके अच्छे संपर्क बने थे।

बिहार दिवस हर साल 22 मार्च को मनाया जाता है। इसी दिन ब्रिटिश सरकार ने 1912 में बंगाल प्रेजिडेंसी से अलग बिहार प्रदेश का गठन किया था। मूल रूप से बिहार के रहने वाले सिन्हा ने दोनों शहरों के बीच संबंध को और प्रगाढ़ करने के लिए सभी संभव सहायता देने का वादा किया। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम और आधुनिक भारत के निर्माण में पटना शहर की भूमिका के बारे में भी अवगत करवाया। प्राचीन मगध साम्राज्य की राजधानी पाटलीपुत्र को ही पटना के नाम से जाना जाता है। इस कार्यक्रम में एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया, जिसमें छठ पूजा, समा चकेवा, तीज, भगवान बुद्ध, भगवान महावीर और गुरू गोविंद सिंह के बारे में जानकारी के अलावा बिहार के दूसरे बड़े पर्वों की झलक दिखाई गई थी।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली॥ पाकिस्तान के लाहौर में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के आवास के निकट बम धमाका हुआ है। इस धामके में तीन पुलिसकर्मियों सहित सात लोगों की मौत हो गई। यह धमाका शरीफ परिवार के आवास से महज एक किलोमीटर की दूरी पर एक पुलिस चौकी के समीप हुआ।

विस्फोट स्थल से कुछ दूरी पर तबलीगी जमात का एक कार्यक्रम था। ‘रेस्क्यू 1122’ के प्रवक्ता जाम सज्जाद ने कहा, ‘‘विस्फोट में सात लोग मारे गए हैं। कुल 20 लोग घायल हुए हैं जिनमें सात पुलिसकर्मी हैं। चार पुलिसकर्मियों की हालत गंभीर बताई गई है।’’

विस्फोट में घायल हुए लोगों को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया। पाकिस्तान की पंजाब राज्य सरकार ने हमले की कड़ी निंदा की है। जांच एजेंसियां अब तक नहीं जान पाई हैं कि यह घटना आत्मघाती हमला था या बम प्लांट किया गया था। घटनास्थल के पास खड़ी एक बाइक पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। घटनास्थल पर कई वरिष्ठ अधिकारी मामले की जांच में जुटे हैं।

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

फोटो गैलरी

Rashtra Samvad FB

एडिटर ओपेनियन

IPL की साख पर सवाल गलत: श्रीनिवासन

IPL की साख पर स...

नई दिल्ली।। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड...

अरुणाचल की तीरंदाजों को चीन ने दिया नत्थी वीजा!

अरुणाचल की तीरं...

नई दिल्ली।। अरुणाचल प्रदेश की दो नाबालिग...

Video of the Day

Right Advt

Contact Us

      • Address: 66, Golmuri Bazar, Jamshedpur-831003, Jharkhand
      • Tel: 0657-2341060 Mbl: 09431179542, 09334823893
      • Email:  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
      • Website: http://rashtrasamvadgroup.com/

About Us

Rashtrasamvad is one of the renowned Hindi Magazine in print and web media. It has earned appreciation from various eminent media personalities and readers. ‘Rashtrasamvad’ is founded by Mr. Devanand Singh.