You are here: Homeखेल जगत

Sports (195)

मुंबई. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा प्रतिबंध हटाए जाने की घोषणा के बाद हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल को एक बार फिर क्रिकेट मैदान पर उतरते हुए देखा जाएगा. बीसीसीआई ने कहा कि हार्दिक को न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल किया जाएगा, वहीं राहुल इंडिया-ए टीम के साथ जुड़ेंगे. उल्लेखनीय है कि गुरुवार को बीसीसीआई ने फिल्मकार करण जौहर के टीवी शो 'कॉफी विद करण' पर महिलाओं के खिलाफ विवादास्पद बयान देने के बाद हार्दिक और राहुल पर लगाए गए प्रतिबंधित को हटाने जाने के फैसले की घोषणा की. बीसीसाई ने गुरुवार शाम को एक बयान जारी कर बताया कि प्रशासकों की समिति (सीओए) ने दोनों खिलाड़ियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है. इन दोनों पर से यह प्रतिबंध बीसीसीआई में लोकपाल की नियुक्ति में हो रही देरी के चलते हटाया गया है. साथ ही यह स्पष्ट कर दिया गया है कि इन पर लगे आरोपों की जांच बंद नहीं हुई है. इनका मामला लोकपाल की नियुक्ति और उनके द्वारा मामले में फैसला लेने के अधीन है. प्रतिबंध हटाए जाने की घोषणा के बाद बोर्ड ने अपने एक बयान में कहा, "वरिष्ठ चयन समिति ने हार्दिक को न्यूजीलैंड के खिलाफ जारी सीरीज के लिए भारतीय टीम में शामिल किए जाने का फैसला किया है. इसके अलावा, राहुल तिरुवनंतपुरम में इंग्लैंड लॉयंस के खिलाफ खेले जा रहे पांच दिवसीय सीरीज के लिए इंडिया-ए टीम में शामिल होंगे."

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली(14 अप्रैल): भारतीय पहलवान साक्षी मलिक ने ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स के 62 किग्रा. वर्ग में ब्रॉन्ज जीत लिया है। ब्रॉन्ज के लिए साक्षी का मुकाबला न्यूजीलैंड की टाइला फोर्ड से हुआ था। पहले राउंड में फोर्ड 2-0 की लीड लेकर चल रही थी लेकिन साक्षी ने वापसी करते हुए इसे 2-2 कर दिया।

दूसरे राउंड में फिर से साक्षी ने कुछ अच्छे दांव लगाए और लीड 4-2 कर लिया। इसके 90 सेकंड बाद ही साक्षी ने खूबसूरत दांव लगाते हुए फोर्ड को नीचे गिरा दिया। लीड 6-2 तक पहुंच चुकी थी। दस सेकंड बचे थे तभी फोर्ड ने वापसी करते हुए साक्षी को ढहा कर स्कोर 6-5 कर दिया। आखिर चंद सेकंड में फोर्ड ने खूब जोर लगाया लेकिन वह साक्षी को ब्रॉन्ज से रोकने में नाकाम रही।

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) की फ्रैंचाइज़ी सनराइजर्स हेदराबाद ने डेविड वॉर्नर की जगह ख़रीदा इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज़ एलेक्स हेल्स को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) ने शनिवार को इस बात की पुष्टि की   

 हेल्स 2015 क मुंबई इंडियंस की टीम का हिस्सा थे , लेकिन एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला। अब जब वॉर्नर पर बॉल टैंपरिंग करने द्वारा एक वर्ष का बैन लग गया है। इसके कारण  भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने भी इस साल उनके आईपीएल खेलने पर रोक लगा दी है। ऐसे में अब लग रहा है कि हेल्स को धवन के साथ पारी की शुरुआत करने का मौका मिल सकता है।

 हेल्स इंग्लैंड की ओर से टी20 इंटरनेशनल में सेंचुरी लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं। सनराइजर्स का पहला मुकाबला 9 अप्रैल को राजस्थान रॉयल्स से होगा

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली॥ टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी पर कई सनसनीखेज आरोप लगाने के बाद हसीन जहां अब अपने पति से मिलना चाहती हैं। बता दें शमी एक सड़क हादसे में घायल हो गए थे। शमी की कार 24 मार्च को एक ट्रक से टकरा गई थी और उनके सिर में कुछ टांके लगे थे।

हसीन जहां ने कहा, ‘मेरी लड़ाई उन्होंने जो मेरे साथ किया है, उसके खिलाफ है, लेकिन मैं शारीरिक रूप से उन्हें घायल होते हुए नहीं देखना चाहती। वह भले ही पत्नी के रूप में मुझे नहीं चाहते हों। लेकिन मैं अब भी उन्हें प्यार करती हूं, क्योंकि वह मेरे पति हैं।’

उन्होंने कहा, ‘मैं अल्लाह से उनके जल्द ठीक होने की दुआ करूंगी।’ हसीन जहां ने कहा कि वह अपनी बेटी के साथ शमी से मिलने को बेताब हैं, लेकिन इस क्रिकेटर से संपर्क के सभी प्रयास विफल रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘मैं अपने पति से संपर्क की कोशिश कर रही हूं। लेकिन वह अपने फोन पर मेरी कॉल का जवाब नहीं दे रहे। यहां तक की, उनके परिवार के सदस्य भी मुझे नहीं बता रहे हैं कि वह इस समय कहां हैं। मैं बेबस महसूस कर रही हूं।’

 

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली: भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए गुरुवार को ऑल इंग्लैंड ओपन चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया. सिंधु की इस जीत के साथ ही महिला एकल वर्ग में भारतीय चुनौती बरकरार रखी है. इससे पहले, सायना नेहवाल पहले ही दौर में बाहर हो गईं थीं. सिंधु ने महिला एकल वर्ग के दूसरे दौर में वर्ल्ड नम्बर-11 थाईलैंड की नितचाओन जिंदापोल को मात दी. तीसरे गेम में सिंधु ने शानदार प्रदर्शन किया. वर्ल्ड नम्बर-3 सिंधु ने जिंदापोल को एक घंटे और छह मिनट तक चले मैच में 21-13, 13-21, 21-19 से मात दी. सिंधु ने पहले गेम में आसानी से जीत हासिल की, लेकिन दूसरे गेम में वह जिंदापोल के आगे कमजोर पड़ गईं. तीसरा गेम दोनों के बीच 26 मिनट तक चला. सिंधु ने 7-4 से अच्छी बढ़त बनाई थी, लेकिन जिंदापोल ने एक समय पर स्कोर 9-9 से बराबर कर लिया. इसके बाद उन्होंने सिंधु को पछाड़ते हुए 16-13 से बढ़त ली. यहां सिंधु ने शानदार स्मैश मारते हुए 18-18 से स्कोर बराबर कर लिया. सिंधु ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा और अंत में 21-19 ने जीत हासिल कर अंतिम-8 में जगह बनाई.

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

नई दिल्ली॥ टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेल गए टेस्ट सीरीज मैचों से लेकर वनडे और टी20 फॉर्म में अपने प्रदर्शन से फैंस का दिल जीत लिया। कोहली ने इस दौरे में 14 पारियां खेलकर 871 रन बनाए हैं। इनमें विराट के 2 अर्धशतक और 4 शतक भी शामिल हैं। इन पारियों की बदौलत विराट कोहली ने नया इतिहास रच दिया है।

वह एक दौरे में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं। उन्होंने इस मामले में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर और महान बल्लेबाज एलन बॉर्डर को पीछे छोड़ दिया है।

टीम इंडिया ने 6 मैचों की वनडे सीरीड में द. अफ्रीका की टीम को 5-1 से करारी शिकस्त दी। इस जीत में विराट कोहली के तीन वनडे शतक भी शामिल हैं। अगर पूरे दौरे की बात करें तो विराट कोहली ने द. अफ्रीका के दौर में 14 पारियों में 871 रन बनाए। इसी के साथ वह बतौर कप्तान सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं।

विराट ने इस मामले में कई महान बल्लेबाजों को पीछे छोड़ दिया है, जिसमें ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व महान खिलाड़ी एलन बॉर्डर भी शामिल हैं। एलन ने साल 1985 में इंग्लैंड टीम के खिलाफ खिलाफ एक दौरे में 14 पारियां खेलकर 785 रन बनाए थे। अब इस लिस्ट में द. अफ्रीका के खिलाड़ी ग्रीम स्मिथ ही विराट कोहली से एक कदम आगे हैं। उन्होंने साल 2003 में इंग्लैंड के खिलाफ 16 पारियों में 937 रन बनाकर यह रिकॉर्ड बनाया था।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

दुबई॥ इसी माह न्‍यूजीलैंड में आयोजित होने वाले अंडर19 वर्ल्‍डकप के लिये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने उन खिलाड़ियों की सूची जारी की है जो न्यूजीलैंड में 13 जनवरी से तीन फरवरी तक होने वाले अंडर-19 वर्ल्‍डकप में अच्छा प्रदर्शन करके भविष्य के सितारों के रूप में उभर सकते हैं। इनमें पृथ्वी शॉ शामिल हैं जिन्होंने हाल में रणजी ट्रॉफी में भी प्रभावशाली प्रदर्शन किया था। पृथ्वी के अलावा ऑस्ट्रेलिया के भारतीय मूल के कप्तान जेसन सांघा, ऑस्‍ट्रेलिया के ही पूर्व क्रिकेटर स्‍टीव वॉ के बेटे ऑस्टिन वॉ और अफगानिस्तान के ऑफ स्पिनर मुजीब जादरान भी शामिल हैं।

आईसीसी ने अपनी विज्ञप्ति में शॉ के बारे में लिखा है, ‘तीन बार के चैंपियन भारत के पास पृथ्वी शॉ के रूप में सबसे सदाबहार बल्लेबाज है। मुंबई में 2013 में अंतर स्कूल मैच में 546 रन बनाकर चर्चा में आने वाले इस 18 वर्षीय क्रिकेटर ने अब तक प्रथम श्रेणी मैचों में पांच शतक लगाए हैं।’पृथ्वी ने पिछले साल जनवरी में प्रथम श्रेणी मैचों में पदार्पण किया था। उन्होंने अब तक 9 प्रथम श्रेणी मैचों में 56।52 की औसत से 961 रन बनाए हैं जिसमें पांच शतक और तीन अर्धशतक शामिल हैं। इनमें से तीन शतक उन्होंने वर्तमान रणजी सत्र में लगाए।

आईसीसी के अनुसार, ‘आईसीसी अंडर-19 वर्ल्‍डकप हमेशा किशोर क्रिकेटरों के लिए कौशल दिखाने का बड़ा मंच मुहैया कराता है और उम्मीद है कि 2018 में भी ऐसा ही होगा।’अफगानिस्तान की टीम में शामिल कप्तान नवीन उल हक और ऑफ स्पिनर मुजीब जादरान दोनों सीनियर टीम में खेल चुके हैं। जादरान ने आयरलैंड के खिलाफ वनडे में अपने पदार्पण मैच में 24 रन देकर चार विकेट लिए थे। उनके बेहतरीन प्रदर्शन से अफगानिस्तान ने अंडर-19 एशिया कप जीता। जादरान ने नेपाल के खिलाफ सेमीफाइनल में 28 रन देकर छह और पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में 13 रन देकर पांच विकेट लिए थे।

ऑस्ट्रेलिया की टीम में भारतीय मूल के जेसन सांघा और पूर्व कप्तान स्टीव वॉ के पुत्र आस्टिन वॉ हैं। सचिन तेंदुलकर के बाद सबसे कम उम्र में प्रथम श्रेणी शतक जमाने वाले सांघा ऑस्ट्रेलियाई टीम की अगुवाई करने वाले भारतीय मूल के पहले क्रिकेटर हैं। पूर्व चैंपियन इंग्लैंड के पास ऑलराउंडर विल जैक्स हैं जो अकेले दम पर मैच का पासा पलटने का माद्दा रखते हैं। दक्षिण अफ्रीकी दौरे में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया। एक मैच में उन्होंने 41 रन देकर चार विकेट लेने के अलावा 71 रन की पारी खेली और अपनी टीम को सीरीज में 4-1 से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी। आयरलैंड की टीम में बायें हाथ के तेज गेंदबाज जोशुआ लिटिल हैं। वह टी20 अंतरराष्ट्रीय में आयरलैंड की तरफ से खेल चुके हैं। मेजबान न्यूजीलैंड के पास रचिन रविंद्र हैं जो सलामी बल्लेबाज होने के साथ बाएं हाथ से स्पिन गेंदबाजी भी कर लेते हैं। रविंद्र पिछली बार भी जूनियर वर्ल्‍डकप में खेले थे। पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी पर भी सभी की निगाहें रहेंगी। उनका प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण धमाकेदार रहा था। उन्होंने कायदे आजम ट्रॉफी में खान रिसर्च लेब्रोटरी की तरफ से रावलपिंडी के खिलाफ 39 रन देकर आठ विकेट लिए थे।

दक्षिण अफ्रीका को अगर 2014 का प्रदर्शन दोहराकर खिताब जीतना है तो फिर आक्रामक बल्लेबाज मैथ्यू ब्रीत्जके को अच्छा प्रदर्शन करना होगा। वह अंडर-19 स्तर पर अब तक तीन शतक जड़ चुके हैं। लिस्ट ए में उनका उच्चतम स्कोर 94 है। दक्षिण अफ्रीकी टीम में पूर्व तेज गेंदबाज मखाया एनटीनी के बेटे थांडो एनटीनी भी हैं। रविंद्र की तरह कामिंदु मेंडिस ने भी पिछले अंडर-19 वर्ल्‍डकप में हिस्सा लिया था। उनके आलराउंड प्रदर्शन से श्रीलंका सेमीफाइनल में पहुंचने में सफल रहा। वह स्पिनर होने के साथ साथ शीर्ष क्रम के बल्लेबाज भी हैं।

वेस्टइंडीज के पास क्रिस्टन कालीचरण हैं जिन्हें 2014 में अंडर-14 स्कूल मैच में नाबाद 404 रन बनाने के बाद अगला ब्रायन लारा कहा जाने लगा था। मध्यक्रम का यह बल्लेबाज अभी उपकप्तान भी है। बांग्लादेश के पिनाक घोष एक अन्य क्रिकेटर हैं जो दूसरी बार अंडर-19 वर्ल्‍डकप में भाग ले रहे हैं। वह पिछली बार सेमीफाइनल में जगह बनाने वाली बांग्लादेश की टीम का हिस्सा थे। इनके अलावा कनाडा के रोमेल शहजाद, कीनिया के अमन गांधी, नामीबिया के जान निकोल लोफ्टी ईटन, पापुआ न्यू गिनी के लेके मोरिया और जिम्बाब्वे के लियाम रोचे ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके प्रदर्शन पर टूर्नामेंट के दौरान सभी की निगाहें लगी रहेंगी।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

मोहली (पंजाब) में बुधवार को श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज़ के दूसरे मैच में 392/4 का स्कोर बनाकर भारत वनडे क्रिकेट में 100 बार 300+ का स्कोर बनाने वाली पहली टीम बन गई। 300+ का स्कोर बनाने के मामले में भारत के बाद ऑस्ट्रेलिया (96) दूसरे नंबर पर और दक्षिण अफ्रीका (79) तीसरे नंबर पर मौजूद है।

Submit to DeliciousSubmit to DiggSubmit to FacebookSubmit to Google PlusSubmit to StumbleuponSubmit to TechnoratiSubmit to TwitterSubmit to LinkedIn

फोटो गैलरी

Rashtra Samvad FB

एडिटर ओपेनियन

IPL की साख पर सवाल गलत: श्रीनिवासन

IPL की साख पर स...

नई दिल्ली।। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड...

अरुणाचल की तीरंदाजों को चीन ने दिया नत्थी वीजा!

अरुणाचल की तीरं...

नई दिल्ली।। अरुणाचल प्रदेश की दो नाबालिग...

Video of the Day

Right Advt

Contact Us

      • Address: 66, Golmuri Bazar, Jamshedpur-831003, Jharkhand
      • Tel: 0657-2341060 Mbl: 09431179542, 09334823893
      • Email:  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
      • Website: http://rashtrasamvadgroup.com/

About Us

Rashtrasamvad is one of the renowned Hindi Magazine in print and web media. It has earned appreciation from various eminent media personalities and readers. ‘Rashtrasamvad’ is founded by Mr. Devanand Singh.